horror train in india | real train horror of real life (2020) | ghost train

horror train in india:- ये कहानी हमारे एक फैन जिनका नाम का माधुरी उन्होंने ही हमें भेजी है जिन्होंने इस कहानी में कुछ हैरान कर देने वाली बातो के बारे में हमें बताया है तो हमारी आप से एक रिक्वेस्ट है की आप इस कहानी को अंत तक पढ़े एक ट्रैन जो अपने तय समय से चल रही थी

वह समय सर्दियों का था और उस दिन ढूंढ भी पढ़ रही थी माधुरी जी आगे बताती है की उस ट्रैन के जो चालक थे वो उनके ही दादा जी थे उस समय चारो तरफ बहुत की ढूंढ पढ़ रही थी

जिसके कारन उन्हें उनको बार बार ट्रैन को रोकने के आदेश मिल रहे थे और क्युकी जिस स्टेशन के पास वो पहुंचने वाले थे वहाँ पहले से ही एक ट्रैन खाड़ी थी

जिससे अभी तक वहाँ से जाने के कोई आदेश नहीं मिले थे कुछ समय बाद उनके दादा जी को उस जगह से ट्रैन का चलने का आदेश मिला और उन्होंने अपनी ट्रैन का इंजन स्टार्ट कर दिया और चलने से पहले उस ट्रैन का हार्न बजाया

ताकि कोई भी ट्रैन की पटरी के आस पास भी हो तो वो वहाँ से हट जाये उनके दादा जी ने ट्रैन का तीन बार हॉर्न बजाया और वो वहाँ से चलने ही वाले थे की उनकी नजर पटरियों पर गई जहा उन्होंने देखा की कोई व्यक्ति उनपर लेटा हुआ है

यु तो ढूंढ की वजह से कुछ साफ साफ नहीं दिखाई दे रहा था लेकिन तरीन की लाइट की वजह से पता चल रहा था की कोई तो है जो उस पटरी पर लेटा हुआ है जिसने पुरे सफ़ेद कपडे पहन रखे थे जब उसके दादा जी ने उस व्यक्ति को देखा

horror train in india | real train horror of real life (2020) | ghost train

horror train in india:- तो वो हैरान थे क्युकी वो व्यक्ति वहाँ से ट्रैन का हॉर्न भी बजने की बावजूद भी नहीं उठ रहा था फिर उनके दादा जी ने ट्रैन के खिड़की से उस व्यक्ति को आवाज देते हुए कहा की भाई तुम्हे ट्रैन के हार्न की आवाज नहीं सुनाई दे रही

क्या भाई अब पटरी से हट जाओ लेकिन उनके कई बार बोलने के बाद भी वो व्यक्ति वहाँ से हटा नहीं अब उस व्यक्ति पर उनके दादा जी को जूसा आने लगा था और वो अपने मन ही मन उस व्यक्ति के बारे में सोच रहे थे की ये पटरी पर क्यों सोया हुआ है

फिर वो उस व्यक्ति को हटाने के लिए उसके पास जाने लगे और जब उनके दादा जी उस व्यक्ति के पास पहुंचे तो उनको दिखाई दिया की वो एक जवान बालक है फिर इसके बाद उनके दादा जी ने उस लड़के से कहा की तुम्हे बिलकुल भी सुनाई नहीं देता

क्या मरने के लिए मेरी ही ट्रैन मिली है तुम्हे उनके ये बोलते ही वो लड़का एकदम से खड़ा हो गया और उनके दादा जी ने उससे टुडे दूर ही रुक गए उनके दादा जी उससे बोले ही जा रहे थे

की वो लड़का एक अजीब से चल में उनकी तरफ भड़ने लगा उसने अपनी गर्दन निचे की तरफ कर राखी थी और जब वो उनके दादा जी के पास पंहुचा तो उसने अपनी गर्दन ऊपर उठा ली

वो वो उनके दादा जी की गर्दन की तरफ देखने लगा की तभी उनके दोस्त की चिल्लाने की आवाज आने लगी जो ट्रैन के इंजन में उनके साथ थे उनके दोस्त उनको बार बार ट्रैन में वापस आने के लिए बोल रहे थे और उनके आवाज से उनके आसा लग रहा था

की मनो वो किसी चीज से डरे हुए ह अब उनके दादा जी बिलकुल भी नहीं समझ पा रहे थे की अचानक से उनके दोस्त के साथ क्या हो गया जो इतनी जोर जोर से उनको बोलै रहे हे तो उन्होंने अपने दोस्त को बोलते हुए

कहा की अभी आता हु पहले इस लड़के को तो देख लू और ये बोल कर वो सामने की तरफ मुड़े तो वो लड़का उनसे कुछ ही दुरी पर खड़ा था और बस वो उन्हें देखे ही जा रहा था उनके दादा जी का घुसा उन लड़के पास शांत नहीं हुआ था

horror train in india:- लेकिन अब उन्हें काफी देर हो चुकी थी और अब उनकी ट्रैन भी भी अपने समय से पीछे चल रही थी तो वो वापस ट्रैन के इंजन में पहुंचे जहा उनके दस्त ने उनसे कहा की तुम अभी मरते मरते बचे हो क्युकी तुम जिससे बात कर रहे थे

तुमने उसके पेरो को नहीं देखा फिर उनके दादा जी ने उससे पूछा की कैसे फिर उनके दोस्त ने बताया की तुम जिस लड़के से बात कर रहे थे उसके पैर उलटे थे जब उन्होंने अपने दोस्त की बात सुनी तो वो बिलकुल हैरान हो

गए और उन्होंने अपने दोस्त की बात को समझते हुए तुरंत ही अपनी ट्रैन को स्टार्ट किया और वो वहाँ से चले गए मगर उन्हें पुरे रस्ते ये विचार आ रहा था की वो लड़का उनके साथ कुछ भी कर सकता था तभी

उन्हें धयान आया की वो लड़का गौर से उनकी गर्दन को ही देख रहा था फिर जब उन्होंने अपनी गर्दन पर हाथ लगाया तो उन्होंने पाया की उन्होंने हनुमान जी का लॉकिट पहन रखा है और सायद उन्हें लगा की

उनके जान आज उसी लॉकिट के कारण बची है दोस्त आपको हमारी कहानी किसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताय थैंक्यू

, , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *