motivational story for students in Hindi | वही करना जो ऊपर वाला चाहता है | Story | Motivation

motivational story for students in Hindi:- किसी ने बड़े कमल की बात कही है की भगवन वही बोलते है की तू वही करता है जो तू चाहता है फिर वही होता है जो में चाहता हु इसीलिए तू वही कर जो में चाहता हु

फिर वही होगा जो तू चाहता है एक छोटी सी कहानी भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन की ये बार भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन कही घूमने के लिए निकले थे की तभी उसकी नजर एक बाबा पर पड़ी जो बाबा कुछ खाना मांगने के लिए घर घर जा रहे थे

जब ये सब भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन ने देखा तो उसको उस बाबा पर थोड़ी सी दया आ गई और उनको बिलकुल भी अच्छा नहीं लगा की वो बाबा दुसरो के घरो से खाना मांग रहे है फिर भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन ने उन बाबा को अपने पास बुलाया और उनसे कहा की बाबा नमस्कार

और आपके लिए मेरे पास कुछ है अर्जुन ने अपने पास से एक सोने के सिको से भरी पोटली उन बाबा को दे दी ये सब देख कर वो बाबा बहुत खुस हुए और उन दोनों का सुकरिया करने लगे की भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन ने उनकी इतने बुरे समय में उनकी मदत ही वो बाबा उस सोने से भरी पोटली को लेकर अपने घर की तरफ जाने आगे

वो उस दिन बहुत खुस ते और मन हिमान उन दोनों के बारे में सोच रहे थे और वो अपने जीवन के बारे में सोच रहे थे की अब से उनको किसी के घर खाना मांगने के लिए नहीं जाना पड़ेगा लेकिन तभी उनको जाते हुए एक चोर ने देख लिए और

उन बाबा से वो सोने की सिको की पोटली लेकर भाग गया फिर उसके बाद उदास मन से अपने घर पहुंचे और साडी बात अपनी पत्नी को बताई की आज हमारे दिन बदलने वाले थे

motivational story for students in Hindi | वही करना जो ऊपर वाला चाहता है | Story | Motivation

motivational story for students in Hindi:- लेकिन कुछ बुरा हो गया अब फिर अगले दिन बाबा खाना मांगने निकल पड़े वो फिर से घर घर से कुछ खाने को मांग रहे थे फिर एक बार भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन ने उन बाबा को देखा तो उन दोनों ने उन बाबा को अपने पास बुलाया और उनसे पूछने लगे की क्या हुआ बाबा मेने तो

आपको कल एक सोने के सिको से भरी पोटली दी थी लेकिन आप आज भी घर घर खाना मांग रहे है फिर बाबा ने अपने साथ हुई सारी बात भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन को बताई तो फिर से एक बार अर्जुन को उन बाबा पर दया आ गई और उन्होंने उस बाबा से कहा की आप चिंता मत कीजिये मेरे पास आपके लिए एक बहुत ही कीमती चीज है

जिससे आपकी सारी दिकत दूर हो जाएगी मेरे पास के मोती है जो बहुत ही कीमती है जिसकी इस धरती कर कोई भी कीमत नहीं चूका सकता अर्जुन ने वो मोती अपने पास से बाबा के हाथ में दे दिया और कहा आप इससे अपने घर ले जाइये बाबा वो मोती लेकर अपने घर पहुंचे वो अपने घर जब पहुंचे तो उन्हें वो मोती कही छुपाने की जगह नहीं मिल रही थी तो उन्होंने सोचा की ये मोती में इस पुराने मटके में छुपा देता हु

और बाद में आकर कही और छुपा दुगा वो बाबा उस मोती को उस पुराने मटके में छुपाने के बाद अपने घर से बहार चने गए जब उनकी पत्नी घर आई तो उन्हें नदी से पानी भरने के लिए जाना था और वो उसी मटके को पानी भरने के लिए ले गई

जब वो नदी के पास पहुंची और जैसे ही उन्होंने उस मटके को नदी के पानी में डुबाया की तभी वो मोती उस मटके में से निकल कर उस नदी में गिर गया जब उनकी पत्नी अपने घर नदी से पानी भर कर घर पहुंची तो बाबा ने उनसे पूछा की इस मटके में जो मोती था वो कहा है तो उनकी पत्नी ने कहा की उन्होंने इस मटके में किसी भी मोती को नहीं देखा फिर उनकी पत्नी ने

कहा की सायद अगर अपने इसमें कोई मोती रखा भी होगा तो वो मेरे पानी धरती समय नदी में गिर गया होगा फिर बाबा ने अपनी पत्नी से कहा की आज उनको भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन ने एक बहुत ही कीमती मोती दिया था

जिससे उन्होंने इस मटके में रखा हुआ था जो तुमने नदी में गिरा दिया अगले दिन बाबा फिर से अपने वही पुराने वाले काम पर निकल गए दो तीन दिन तक भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन

उन्हें नहीं मिले लेकिन चौथे दिन भगवन श्री कृष्ण और उसके दोस्त अर्जुन ने उनको देखा और फिर से उन बाबा को अपने पास बुलाया अर्जुन ने भगवन श्री किरशन से कहा की ये क्या हो रहा है फिर अर्जुन ने उन बाबा से पूछा की

motivational story for students in Hindi | वही करना जो ऊपर वाला चाहता है | Story | Motivation

motivational story for students in Hindi:- आप फिर से यहाँ मेने जो मोती आपको दिया था उसका क्या हुआ तो बाबा ने उन दोनों को बताया की मेरे तो बहुत ही बुरे दिन चला रहे है अपने जो मोती मुझे दिया था वो मोती मेरी पत्नी ने नदी में गिरा दिया फिर अर्जुन ने भगवान श्री किरशन से कहा की भगवन मुझे इन बाबा के ऊपर बहुत ही दया आ रही है आप कुछ कीजिये

तो भगवान श्री किरशन ने अपने पास से दो सीके अपने पास से निकल कर उस बाबा को दे दिए और उनसे कहा की बाबा अब सब ठीक हो जायेगा बाबा उस सिको को लेकर अपने घर की तरफ जाने लगे और वो रस्ते में मन ही मन सोच रहे थे

की उनका इन सिको से क्या होगा वो ये सोचते हुए अपने घर की तरफ जा ही रहे थे की उन्होंने देखा की एक व्यक्ति ने एक मछली को पकड़ रखा है तो वो बाबा उस व्यक्ति के पास पहुंचे और उस व्यक्ति से बोले की आप इस मछली को छोड़ दो में आपको दो सीके दे दुगा वो व्यक्ति उन बाबा की बात को मांनने को तैयार हो गया

और उसने बाबा से वो दोनों सिको को लेने के बाद उस मछली को छोड़ दिया बाबा ने उस मछली को अपने कमंडल में ले लेलिया फिर बाबा ने जब उस मछली को देखा तो उनको उस मछली के पेट में वोही मोती दिखाई दिया

जो उन्हें अर्जुन ने दिया था बाबा उस मोती को देखा कर जोर जोर से चिल्लाने लगे की मिल गया मिल गया जब वे बात उस चोर ने सुनी जो वही से जा रहा था वो सोचने लगा की सायद वो उसको देख कर चीला रहे है की मिल गया मिल गया वो चोर उस बाबा के पास आया और बाबा से रो रो कर बोलने लगा की वो आपके सरे सीके

दे देगा बस उसको जेल में ना डाले उस चोर ने बाबा को सरे सोने के सीके दे दिया अब बाबा के पास मोती था और वो सोने के सीके भी थे जब ये सब कुछ अर्जुन ने देखा तो वो भगवन श्री किरशन से पूछने लगा के भगवन ये कौन चमत्कार है जब मेने उस बाबा को इतना कुछ दिया तब उसके साथ कुछ नहीं हुआ और जब अपने उस बाबा को दो सीके दिए

motivational story for students in Hindi:- तो उसके दिन बदल गए तो भगवन श्री किरशन ने उनसे कहा की वो पहले सिर्फ अपने बारे में सोच रहा था और जब मेने उससे दो सीके दिए तो वो दुसरो के बारे में सोचने लगा ये पूरी कहानी सोच की है ये कहानी हमें एक बहुत ही बड़ी बात सिखाती है

की आपके अच्छे कर्म हमेशा आपके साथ अच्छा ही होने देते है इसलिए आपको कभी भी किसी की मदत करने का मौका मिले तो उसकी मदत जरूर करियेगा क्युकी धन तो हर कोई कमा सकता है लेकिन दुआ कामना बहुत मुश्किल है

, , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *